पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारी निम्नलिखित सदस्यों के शामिल हैं।

ओमप्रकाश राजभर :- 1981 में मान्यर काशीराम जी के प्रभाव से राजनैति प्रेरणा मिली और ओमप्रकाश राजभर,बहुजन समाज पार्टी के कर्मठ सिपाही बन गये । सन् 1996 में मा0 ओमप्रकाश राजभर बहुजन समाज पार्टी के जिला अध्यक्ष बनें । जीवन में वो दीन दुखदाई था जिस दीन पूर्व मुख्यमंत्री सु0श्री0 मायावती जी ने भदोही का नाम बदल कर संतरबीदास नगर किया क्यों कि अपने समाज को जगाने के लिए अम्बेडकर पार्क ,अम्बेडकर उघान ,कालेज तथा अन्य कार्य करती थी । तो वही भर राजभर के इतिहास को मिटाने का काम करती थी जबकी मान्यवर कांशीराम जी कहा करते थे जो समाज अपना इतिहास नही जनता अपने पूर्वजो का कद्र नही करता वह समाज कभी तरक्की नहीं कर सकता,वही पर कहा करते थे कि  जिसकी जितनी संख्या भारी उसकी उतनी भागीदारी,परन्तु सरकार बनने के बाद केवल अनुसुचित जाति अनुसुचित जनजातियों के लिए ही कार्य किया 25000 हजार नौकरी 300 आई0एस और पि0सी0एस0 कोचिंग सेन्टर 890 एकड भूमि में अम्बेडकर स्कीम चलाकर केवल एसटी0 एससी0 के लोगो को दीया, जब ओमप्रकाश राजभर जी ने राजभर और अन्य गरीबो की बात कही तब मुख्यमंत्री जी ने साफ शब्दो में कहा कि मैने अपने समाज के उत्थान के लिए ही पार्टी बनाई है। आज कल तुम बहुज बोलने लगे हो तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई हमसे बात करने कि तुम्हारी बिरादरी के सुखदेव राजभर और रामअंचल राजभर कुछ नहीं बोलते , लेकिन आपने बहन जी कि धमकाने पर भी हिम्मत जुटाकर प्रश्न किया कि बहन जी आप खुद ही मंच से कहती है कि जो समाज अपना इतिहास नहीं जानता अपने पूर्वजो का कद्र नही करता वो समाज कभी तरक्की नही कर सकता है परन्तु आपने राजभरो का इतिहास मिटा कर गुमराह कर रही है भदोही का नाम भरो से जुडा हुआ था भदोही का नाम बदल कर संतरबीदास नगर कर दीया राजभरो के तमाम इतिहास को मिटाने में लगी हैं। जबकी हमारे राजभर समाज ने आपको मुख्यमंत्री बनाने में दुसरे नम्बर का योगदान दीया । इस पर मुख्यमंत्री नराज हो गई और कही कि जाओ जो तुम्हे करना है करो,यहॅा बकवास करने कि जरूरत नहीं है । आपने बहुजन समाज पार्टी का साथ सन् 2001 में छोड दी और मा0 सोनेलाल पटेल कि पार्टी अपना दल में आ गये क्योंकि उन्होने राजनैतिक भागीदारी और राजभर के बेटे को मुख्यमंत्री बनाने का वादा किया परन्तु वादा खोखली निकली और आपने अपना दल छोड कर 27 अक्टूबर सन् 2002 में बनारस के सारनाथ स्थित महाराजा सुहेलदेव राजभर पार्क में राजभर महाराजा सुहेलदेव कि मुर्ति पर माल्याण पर कर रोड जाम किया और वहीं पर आपने 27 लोगों को लेकर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का नाम दीया और नारा लगाया गुलामी छोडो समाज जोड़ो आपने पिला साफा और झंण्ड़ा देवी देवताओ के प्रतिक मानते है आपने अपने पूर्वज महाराजा सुहेलदेव राजभर को याद करते हुए सलामी के रूप में जय सुहेलदेव का नारा दीया आपने देश के नैजवानो का आवाहन किया उन्हे बताया महात्मा गांधी लोकनायक जयप्रकाश का साथ नौजवानो ने दीया ऐ मेरे नौजवान साथियों आप सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का साथ दें ।

अरबिन्द राजभर :-  मैं प्रशासनिक अधिकारी बनकर गरीब समाज में एक पहचान बनानें की इच्छा मन में लिये हुए इसको साकार करनें के लिये महात्मा गॉधी काशी विद्यापीठ से स्नातक अंतिम वर्ष का अध्ययन कर रहा था कि अचानक एक घटना घटी जिससे न चाहते हुये भी मुझे भी पिता जी के साथ सक्रिय राजनीति में आना पड़ा। गरीबो के लिये पिता जी अकेले संघर्ष कर रहे थे । वैसे तो पार्टी में अनेका नेक योग्य एवं निष्ठावान सहयोगी पिता जी के साथ पार्टी के आन्दोलन को आगे बढ़ानें का काम सफलता से कर रहे थे। 3 जनवरी 2011 को बहुजन समाज पार्टी उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ वाराणसी जिला मुख्यालय पर क्रमिक अनसन में पिता जी केद्रिय कार्यालय रसड़ा बलिया से सम्मिलित होने आये थे । कि बसपा के नेताओं के इसारे पर आन्दोलन को दबानें की मन्सा से पुलिस प्रशासन नें कार्यकर्ताओं के उपर लाठी चार्ज कर दिया जिसमें सैकड़ो कार्यकर्ताओं सहित पिता जी को निर्ममता पूर्वक पूलिस प्रशासन के लोगो नें पीटाई करते हुए मुझे भी जिला जेल वाराणसी में भेज दिया। इस अन्याय पुर्ण कार्यवाही नें मेरे अन्दर की प्रशासनीक अधिकारी बन समाज सेवा करनें इच्छा को समाप्त कर दिया और मै उसी दिन संकल्प लिया कि जेल से छुटनें के बाद पिता जी के साथ पार्टी का काम सक्रिय रूप से करते हुए गरीबों के लिये संघर्ष को निर्णायक दौर में पहुॅचाउगा । 1 अप्रेल 2012 को वर्तमान प्रदेश अघ्यक्ष मा0 महेन्द्र राजभर नें युवा प्रभारी पद का घोषणा कर मुझे संगठन से जोड़ा । काम करते हुये लोकसभा चुनाव 2014 के बाद दारूलसफा कामन हाल बी लखनऊ मे 1 अगस्त 2014 को नेता जी नें मुझे सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का राष्ट्रीय प्रमुख महासचिव का दायित्व दिया ।

महेन्द्र राजभर :- . 1985 राजनीति की प्रेरणा मिली  हमने किया था हमारे चाचा कांग्रेस की राजनीत करते थे स्व0 श्री घुरा राजभर प्रधान उस समय थे जिनके वजह से हमें राजनीत की प्रेरणा मिली लोगो का मद्दत व दुख सुख में सहयोग किया करते थे हमारे परिवार के होने के नाते उन्ही से राजनीति करने का हमे जो प्रेरणा मिली मुझे भी ऐसा लगा कि राजनीति के माघ्यम से गरीब कमजोर  की अधिकार की लड़ाई लड़ी जा सकती है । तो मै कांग्रेस के साथ 1985 से सक्रिय होकर लग गया उसके बाद 1995 में मैने क्षेत्र पंचायत का चुवान लड़ा 400 वोट देकर लोगो ने मुझे ब्लाक तक जिताकर पहुचाया फिर 2000 में पंचायत चुनाव प्रधान पद के लिए प्रयास किया लेकिन चुवान हार गये उसके बाद भी राजनीत में सक्रिय बनें रहे। मा. ओमप्रकाश राजभर राष्ट्रीय अध्यक्ष भारतीय समाज पार्टी की बढती जनाधार को देखते हुए ब्लाक रतनपुरा जिला मऊ में मा. ओमप्रकाश राजभर जी के विचार सुनने के बाद हमारे अन्दर एक नई जिज्ञासा जगी और मै मा. ओमप्रकाश राजभर जी से मिला उसके बाद सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी से 2003 में जुड़ा। मै सुभासपा में पुरी तरह सक्रिय हो गया  उसके बाद हमें जिला मऊ में ब्लाक रमनपुरा का महासचिव बनाया गया उसके बाद धिरे धिरे आन्दोलन बढ़ा फिर पार्टी नें मुझे जिले का महासचिव बनाया । उसके बाद प्रदेश में युवा मंच सलाहकार बना फिर  युवा मंच का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया और पार्टी नें मेरे कार्यकाल को देखते हुए प्रदेश अध्यक्ष बनाया । 2007 से 2013 तक प्रदेश अध्यक्ष पद रहा। सन् 2014 में मेरे काम को देखते हुए मा. ओमप्रकाश राजभर जी द्वारा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व कार्यवाहक राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया।

मा. शक्ति सिंहः-  मेरे मन में राजनीति के प्रति प्रेरणा चन्द्रशेखर सिंह जी के जिवन से मिला लेकिन सक्रिय राजनीति करने का अवसर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर के कारण हुआ यू कि स्नातकोत्तर महाविद्यालय से हिन्दी साहित्य से एम0ए0 करने के बाद मै अपने गॉव ताजपुर डेहमा गाज़ीपुर ही रह रहा था कि अचानक 29 जून 2004 को संसदीय चुनाव के बाद पहली बार सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर जी का कार्यक्रम मेरे गॉव में लगा । कार्यक्रम सुनने के बाद नेता जी से कुछ बाते हुई,कुछ बाते,रात को सोते समय टेलिफोन द्वारा अपने घर वार्ता किया बात करने के बाद सोचने लगा की हर पार्टीयों के राष्ट्रीय अध्यक्ष संसदीय चुनाव के बाद राजधानियों में चले जाते है इस नेता के अन्दर कुछ अलग करने की क्षमता है। 2 जूलाई 2004 को पूनः राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर जी का कार्यक्रम सुनने का मौका पखनपुरा ग्राम सभा के ललपिपरी राजभर बस्ती जिला गाज़ी़पुर में मिला,वहीं मेरे गॉव के कुछ राजभर साथी कार्यक्रम सुनने गये थे जिन्होने मुझे पार्टी ज्वाईन कराया और पुरे मन से केन्द्रीत होकर सुभासपा के आन्दोलन से जुड़ गया। 10 जूलाई 2004 को मा. नेता जी ने जहूराबाद की विधानसभा की बैढक कासिमाबाद में जिला गाजीपुर का मीडिया प्रभारी बनाया। लगातार संगठन का काम गाज़ीपुर जनपद के साथ-साथ बाहरी जनपदो में करते हुए 3 जनवरी 2005 को खलीलाबाद संन्तकबीरनगर जनपद के  हैसर विधानसभा के एक गॉव में आयोजित जनसभा में नेता जी ने युवा मंच के प्रदेश उपाध्यक्ष बनाकर युवा मंच के सलाहकार मा. महेन्द्र राजभर से परिचय कराया और 1 मई 2007 को नेता जी ने मऊ  जनपद के पी0डब्लू0डी0 के डाकबंगले पर उ0प्र0 के प्रभारी पद पर मुझे नियुक्त किये । संगठन का काम उ0प्र0 के साथ उत्तराखखड का काम 2009 तक किया 1 जनवरी 2010 को नेता जी ने बिहार प्रान्त का प्रभारी बनाकर विधानसभा चुनाव में भेजा। 2013 में विधानसभा चुनाव छत्तिसगढ़ का प्रभारी बनाये। 1 अगस्त 2014 को दारूलसफा कामनहाल बी ब्लाक लखनऊ उ0प्र0 में पार्टी बैठक में नेता जी ने मेरे नाम की घोषणा राष्ट्रीय सचिव  के पद पर किये,इस प्रकार सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर जी ने कार्यकर्त्ताओं को संगठन के निचले स्तर से काम कराते कराते अनुभव एवं संघर्षों के कारण राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अपने साथ रखकर यह सिद्व कर दिया कि पार्टी में काम करने वाले कार्यकर्ताओं का सम्मान व अधिकार हमेशा सुरक्षित रहेगा।

सालिक यादव :- सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर जी का कार्यक्रम सादात गाज़ीपुर में कार्यक्रम सुनने के बाद नेता जी से कुछ बाते हुई,और 3 जनवरी 2003 को बेदबिहारी पोखरा कासिमाबाद में एक जनसभा का आयोजन कराकर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी ज्वाईन किये और केन्द्रीत होकर सुभासपा के आन्दोलन से जुड़ गया। सक्रिय राजनीति में आकर 10 जनवरी 2003 को विधानसभा जहूराबाद की बैठक में विधानसभा का कोषाध्यक्ष की जिम्मेदारी पाया । लोकसभा चुनाव 2004 के बाद सैदपुर विधानसभा उपचुनाव के दौरान जिला प्रमुख महासचिव बनाया गया। अप्रैल 2005 में गाज़ीपुर जिलाध्यक्ष के रूप में मनोनित हुआ नवम्बर 2009 को युवा मंच उत्तर प्रदेष के महासचिव के पद पर किये,इस प्रकार सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मा.ओमप्रकाश राजभर जी ने कार्यकर्त्ताओं को संगठन के निचले स्तर से काम कराते कराते अनुभव एवं संघर्षों के कारण जनवारी 2011 को प्रदेश उपाध्यक्ष का दायित्व पार्टी द्वारा प्राप्त हुआ मेरे कार्यशैली को देखते हुए मा. ओमप्रकाश राजभर जी राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अपने साथ रखकर यह सिद्व कर दिया कि पार्टी में काम करने वाले कार्यकर्ताओं का सम्मान व अधिकार हमेशा सुरक्षित रहेगा। 1 जून 2014 को मा. नेता जी ने राष्टीय्र संगठन मंत्री के पद पर घोषणा किये।

Close
CONTACT US
221, Mount Olimpus, Rheasilvia, Mars,
Solar System, Milky Way Galaxy
+1 (999) 999-99-99
PGlmcmFtZSBzcmM9Imh0dHBzOi8vd3d3Lmdvb2dsZS5jb20vbWFwcy9lbWJlZD9wYj0hMW0xOCExbTEyITFtMyExZDYwNDQuMjc1NjM3NDU2ODA1ITJkLTczLjk4MzQ2MzY4MzI1MjA0ITNkNDAuNzU4OTkzNDExNDc4NTMhMm0zITFmMCEyZjAhM2YwITNtMiExaTEwMjQhMmk3NjghNGYxMy4xITNtMyExbTIhMXMweDAlM0EweDU1MTk0ZWM1YTFhZTA3MmUhMnNUaW1lcytTcXVhcmUhNWUwITNtMiExc2VuITJzITR2MTM5MjkwMTMxODQ2MSIgd2lkdGg9IjEwMCUiIGhlaWdodD0iMTAwJSIgZnJhbWVib3JkZXI9IjAiIHN0eWxlPSJib3JkZXI6MCI+PC9pZnJhbWU+
Thank You. We will contact you as soon as possible.
सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी
Candidate Name
Email Id
Mobile No.
Message
प्रतिक्रिया